the poetry world

A Place where you can write your feeling as poetry

You’ll like it just try!

Submit your poetry

Recent updated Poetry

You would like to read

तू जींस न पहनो मेरी माँ

तू जींस न पहनो मेरी माॅ
क्यूँकि………..

मिल न पाती तेरी आँचल की छाया
सूर्य जलाता मुझको माॅ
तेरे आँचल ...

November 16, 2017

शुभ नहीं होता

बड़ों के बीच में बच्चों का भाषण शुभ नहीं होता।
जमाई को मिले बेटे का राशन शुभ नहीं होता।
कदापि शुभ नह...

October 23, 2017

बेटी क्या हैं!

बेटी दुर्गा की हैं अवतार,
ना कर मानव इसका संहार|

हैं जन्मदात्री मनुष्य जीवन की
इसमें भरा करूणा का प्यार|

...

October 13, 2017