लज्जा

लज्जा नारी का
गहना है समझो
आज के युवा

अपने देश
से गद्दारी ना करो
हया तो करो

मुख घुंघट
में ही भाये गोरी का
शर्म से लाल

संस्कार तज
लज्जा ना आवे कैसा
हुआ युवा हैं

मात-पिता को
त्याग किया बेटे ने
शर्म तज के

नेता ने वोट
खरीदे काले धन से
बिना शर्म के

हाइकू ~
अनीता मिश्रा सिद्धी

 NEXT
 PREVIOUS

Leave a Comment