शारदे वंदना

शारदे भाव सुमन स्वीकार |
वीणा के हर तार – तार वीणा वादिनि झनकार |

घिरी घटा घन घोर निराशा |
तिमिर तोम चंहु ओर कुहासा ||
माँ अन्तस का कलुष मिटा दे, भूलूँ ना उपकार ||
शारदे भाव सुमन स्वीकार

पावन प्रज्ञा प्रखर बना दे |
अजर बना दे अमर बना दे ||
वर दे , कर दे पंगु समर्पण का थोडा विस्तार
शारदे भाव सुमन स्वीकार

तुझसे सृष्टि का संचालन |
माँ ममता मयी लालन – पालन |
भक्ति , शक्ति , अनुरक्ति गहा दे, हो पुलकित परिवार
शारदे भाव सुमन स्वीकार

संजीत सिंह
हरदोई
(यूपी)

 NEXT
 PREVIOUS

Leave a Comment